You are currently viewing लोभ का फंदा | Moral Story in Hindi

लोभ का फंदा | Moral Story in Hindi

एक धनी व्यक्ति दिन-रात अपने व्यापारिक कामों में लगा रहता था । उसे अपने स्त्री-बच्चों से बात करने तक की फुरसत नहीं मिलती थी ।

पड़ोस में ही एक मजदूर रहता था जो एक रुपया रोज कमाकर लाता और उसी से चैन की बंशी बजाता । रात को वह तथा उसके स्त्री-बच्चे खूब प्रेमपूर्वक हँसते बोलते ।

सेठ की स्त्री यह देखकर मन ही मन बहुत दुःखी होती कि हमसे तो यह मजदूर ही अच्छा है, जो अपना गृहस्थ जीवन आनंद के साथ तो बिताता है ।

उसने अपना महा दुःख एक दिन सेठ जी से कहा कि इतनी धन-दौलत से क्या फायदा जिसमें फँसे रहकर जीवन के और सब आनंद छूट जाएँ ।

सेठ जी ने कहा तुम कहती तो ठीक हो, पर लोभ का फंदा ऐसा ही है कि इसके फेर में जो फँस जाता है उसे दिन-रात पैसे की ही हाय लगी रहती है ।

यह लोभ का फंदा जिसके गले में एक बार पड़ा वह मुश्किल से ही निकल पाता है । यह मजदूर भी यदि पैसे के फेर में पड़ जाए तो इसकी जिंदगी भी मेरी ही जैसी नीरस हो जावेगी ।

सेठानी ने कहा-इसकी परीक्षा करनी चाहिए ।

सेठ जी ने कहा, अच्छा-उसने एक पोटली में निन्यानवे रुपए बाँधकर मजदूर के घर में रात के समय फेंक दिए । सवेरे मजदूर उठा और पोटली आँगन में देखी तो खोला, देखा तो रुपए । बहुत प्रसन्न हुआ ।

स्त्री को बुलाया, रुपए गिने । निन्यानवे निकले, अब उनने विचार किया कि एक रुपया कमाता था उसमें से आठ आने खाए गए, आठ आने जमा किए ।

दूसरे दिन फिर आठ आने बचाए । अब उन रुपयों को और अधिक बढ़ाने को चस्का लगा ।

वे कम खाते, रात को भी अधिक काम करते ताकि जल्दी-जल्दी अधिक पैसे बचें और वह रकम बढ़ती चली जाए ।

सेठानी अपने छत पर से उस नीची छत वाले मजदूर का सब हाल देखा करती ।

थोड़े दिनों में वह परिवार जो पहले कुछ भी न होने पर भी बहुत आनंद का जीवन बिताता था अब धन जोड़ने के चक्कर में, निन्यानवे के फेर में पड़कर अपनी सारी प्रसन्नता खो बैठा और दिन-रात हाय-हाय में बिताने लगा ।

तब सेठानी ने समझा कि जोड़ने और जमा करने की आकांक्षा ही ऐसी पिशाचिनी है जो मजदूर से लेकर सेठ तक की जिंदगी को व्यर्थ और भार रूप बना देती है ।

निष्कर्ष : जीवन बहुत ही सरल हैं अगर हम भौतिकवादी चीज़ों के पीछे भागने के बदले जीवन के सही मूल्यों और आनंद की राह चले ।

अगर आपको यह Moral Story in Hindi पसंद आई हो तो कृपया आपकी राय कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताइए, पढ़ने के लिए शुक्रिया ।

और ऐसी Hindi Moral Stories पढ़ने के लिए निचे क्लिक करे।

VIRAT CHAUDHARY

हेल्लो फ्रेंड्स, मैं विराट आसान है का संस्थापक और मोटिवेशनल लेखक, ब्लॉगर और इंटरप्रेन्योर हूँ. मैं यहाँ अपने लाइफ एक्सपीरियंस शेयर करता हूँ और बताता हूँ की कैसे हम अपनी लाइफ आसान और सक्सेसफुल बनाये, कैसे अपने मनचाहे लक्ष्य प्राप्त करे और कैसे एक विराट सफलता हासिल करे. यहाँ मैं रेगुलर प्रेरणादायक, आत्मविश्लेषण और आत्मविकास के अत्यधिक प्रभावशाली लेख प्रस्तुत करता हूँ जिसे पढ़कर बेशक आप सब की लाइफ आसान और सफल होगी. Love You All. :)

This Post Has One Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.