Read more about the article सकारात्मक सोच | Positive Thinking in Hindi
Positive Thinking

सकारात्मक सोच | Positive Thinking in Hindi

एक बार की बात है किसी राज्य में एक राजा था जिसकी केवल एक टाँग और एक आँख थी। उस राज्य में सभी लोग खुशहाल थे क्यूंकि राजा बहुत बुद्धिमान और प्रतापी था। एक बार राजा के विचार आया कि क्यों खुद की एक तस्वीर बनवायी जाये। फिर क्या था, देश विदेशों से चित्रकारों को बुलवाया गया और एक से एक बड़े चित्रकार राजा के दरबार में आये। राजा ने उन सभी से हाथ जोड़कर आग्रह किया कि वो उसकी एक बहुत सुन्दर तस्वीर बनायें जो राजमहल में लगायी जाएगी।

23 Comments
Read more about the article Friendship Hindi Story | अच्छाई को दिल में रखे
True Friends

Friendship Hindi Story | अच्छाई को दिल में रखे

दो दोस्त एक दिन साथ रेगिस्तान घूमने निकले और यात्रा के दौरान चलते चलते निजी बात पे कहा सुनी हो गयी । एक दोस्त ने दुसरे को थप्पड़ मार दिया । थप्पड़ खानें वालें दोस्त को चौट लगी दुःख भी हुवा लेकिन कुछ बोले बिना वो निचे बैठ गया और रेत पे लिख दिया आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मुझे थप्पड़ मारा फिर वो दोनों आगे चलने लगे । आगे उन्होनें एक जील देखि और उसमे स्नान करने का फैसला किया । स्नान करते समय जिसने थप्पड़ खाया था वो दोस्त पानी मै डूबने लगा तो दुसरे दोस्त ने उसे खिंच के बहार निकाल के बचा लिया ।

55 Comments
Read more about the article प्रसन्न रहने की कला | The art of being happy
Happiness Story

प्रसन्न रहने की कला | The art of being happy

प्राचीनकाल में एक संत थे । धर्मश्रधा के कारण सदा प्रसन्न रहते, चहेरे से उल्लास टपकता रहता । चोरों ने समझा उनके पास कोई बड़ी दौलत है, अन्यथा हर घडी इतने प्रसन्न रहने का और क्या कारण हो सकता है ? अवसर पाकर चोंरो ने उनका अपहरण कर लिया, जंगल में ले गए और बोले , हमने सुना है की आपके पास सुखदा मणि है, ईसी से इतने प्रसन्न रहते है, उसे हमारे हवाले कीजिये, अन्यथा जान की खैर नहीं । संत ने एक-एक करके हर चोर को अलग-अलग बुलाया और कहा, “चोरों के डर से मैंने उसे जमीं में गाड़ दिया है

4 Comments
Read more about the article स्वामी विवेकानंद (भागो मत) | Swami Vivekananda Moral Story
Swami vivekananda

स्वामी विवेकानंद (भागो मत) | Swami Vivekananda Moral Story

स्वामी रामकृष्ण परमहंस के शरीर-त्याग के बाद उनके शिष्य स्वामी विवेकानंद तीर्थयात्रा के लिए निकले । कई के दर्शन करते हुए वह कशी आये और विश्वनाथ के मंदिर में पहुंचे । अच्छी तरह से दर्शन करके बहार आये तो देखते है की कुछ बन्दर इधर-से-उधर चक्कर लगा रहे हैं । स्वामीजी जैसे ही आगे बढ़े की बंदर उनके पीछे पड गए । उन दिनों स्वामीजी लम्बा अंगरखा पहना करते थे और सर पर साफा बंधते थे । विधा प्रेमी होने के कारण उनकी जेबें पुस्तकों तथा कागजों से भरी रहती थीं । बंदरो को भ्रम हुआ की उनकी जेंबो में खाने की चीजे है ।

3 Comments
Read more about the article परिश्रम ही धन है | Short Hindi Story
Hard Work

परिश्रम ही धन है | Short Hindi Story

परिश्रम ही सच्चा धन है । सुन्दरपुर गावं में एक किशन रहेता था । उसके चार बेटे थे । वे सभी आलसी और निक्कमे थे । जब किशन बुढा हुआ तो उसे बेटो की चिंता सताने लगी । तुम लोग उसे निकल लेना ।” इतना कहते - कहते किशान के प्राण निकल गए । पिता का क्रिया-क्रम करने के बाद चारो भाइयो ने खेत की खुदाई शुरू कर दी । उन्होंने खेत का चप्पा-चप्पा खोद डाला, पर उन्हें कही धन नहीं मिला । एक बार किशान बहोत बीमार पड़ा । मृत्यु निकट देखकर उसने चार बेटो को अपने पास बुलाया । उसने उस चारो को कहा “ मैने बहुत सा धन अपने खेत में गाड रखा है ।

10 Comments

लोभ का फंदा | Moral Story in Hindi

एक धनी व्यक्ति दिन-रात अपने व्यापारिक कामों में लगा रहता था। उसे अपने स्त्री-बच्चों से बात करने तक की फुरसत नहीं मिलती थी। पड़ोस में ही एक मजदूर रहता था जो एक रुपया रोज कमाकर लाता और उसी से चैन की वंशी बजाता।

1 Comment